Wednesday, 8 January 2014

जुदाई भरी शायरी


उसको चाहा पर इज़हार करना नहीं आया;
कट गई उम्र हमें प्यार करना नहीं आया;
उसने कुछ माँगा भी तो मांगी जुदाई;
और हमें इंकार करना नहीं आया।

No comments:

Post a Comment