Sunday, 5 January 2014

इश्क की शायरी

इश्क की शायरी

दूर जाकर भी हम दूर जा ना सकेंगे;
कितना रोयेंगे हम बता ना सकेंगे;
गम इसका नहीं कि आप मिल ना सकोगे;
दर्द इस बात का होगा कि हम आप को भुला ना सकेंगे।

No comments:

Post a Comment