Sunday, 5 January 2014

इज़हार की शायरी

इज़हार की शायरी

पूछो ना उस कागज़ से जिस पे;
हम दिल के मुकाम लिखते है;
तन्हाइयों में बीती बातें तमाम लिखते है;
वो कलम भी दीवानी हो गई;
जिस से हम आप का नाम लिखते है।

1 comment:

  1. These are very nice collection of poetry but my hindi is not that good. Do you have Urdu Poetry or Roman Hindi It will help me a lot.

    ReplyDelete